Monday, October 5, 2020

जीत के ट्रैक पर लौटी CSK, कोई विकेट नहीं गिरा सके पंजाब के बोलर्स, वॉटसन-फाफ ने यूं लगाई ‘वाट’

दुबई
महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी वाली चेन्नै सुपर किंग्स (CSK) इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) के एक मुकाबले में किंग्स इलेवन पंजाब (KXIP) पर भारी पड़ी। उसने 10 विकेट से हराते हुए जीत के ट्रैक पर वापसी की। चेन्नै की जीत के सूत्रधार रहे ऑस्ट्रेलियाई ऑलराउंडर शेन वॉटसन (53 गेंद, 11 चौके, 3 छक्के, नाबाद 83 रन) और साउथ अफ्रीका के फाफ डु प्लेसिस (53 गेंद, 11 चौके, एक छक्का और नाबाद 87 रन) इन दोनों ने 179 रनों का पीछा करने उतरी चेन्नै (181/0) को कोई भी झटका नहीं लगने दिया। इन दोनों बल्लेबाजों के सामने पंजाब के गेंदबाज पूरी तरह से असहाय नजर आए और कोई भी विकेट नहीं ले सके।

फाफ डु प्लेसिस और वॉटसन ने यूं दी तूफानी शुरुआत
दुबई के स्टेडियम में 179 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी चेन्नै सुपर किंग्स के लिए शोन वॉटसन और फाफ डु प्लेसिस ओपनिंग करने उतरे और इसके बाद सब इतिहास रहा। इन दोनों ने टीम को तूफानी शुरुआत दी और पावरप्ले में 10 की औसत से रन बनाए। 6 ओवर के बाद टीम का स्कोर 60 रन थे तो 9.5 ओवर में टीम का सैकड़ा पूरा हुआ। वॉटसन ने जहां शेल्डन कॉटरेल को निशाना बनाया तो छठा ओवर करने आए क्रिस जॉर्डन को प्लेसिस ने 4 चौके जड़ डाले।

ऐसे पूरी हुई वॉटसन और डु प्लेसिस की फिफ्टी
इन दोनों की तूफानी बैटिंग का अंदाज ऐसा था कि पंजाब के गेंदबाजों को समझ में ही नहीं आ रहा था कि आखिरी कहां गेंद की जाए कि रन गति पर अंकुश लगाया जा सके। इस दौरान खराब फील्डिंग ने भी कप्तान केएल राहुल के लिए सिरदर्द बनी। शेन वॉटसन ने 31 गेंदों में चौके से हाफ सेंचुरी पूरी की तो क्रिस जॉर्डन की ओर से किए गए 11वें ओवर में ही फाफ डु प्लेसिस ने भी यह आंकड़ा पार किया। उन्होंने इसके लिए 32 गेंदें खेलीं।

18वें ओवर की तीसरी गेंद पर छक्का और चौथी गेंद पर चौका लगाकर फाफ डु प्लेसिस ने सीएसके को बेहद आसानी से जीत दिला दी। दूसरी ओर, पंजाब के लिए क्रिस जॉर्डन ने 42, हरप्रीत बरार ने 41, मोहम्मद शमी ने 35, रवि बिस्नोई ने 33 और शेल्डन कॉटरेल ने 30 रन खर्च किए। किसी भी गेंदबाज को कोई विकेट नहीं मिला।

हैटट्रिक हार के बाद पटरी पर लौटी धोनी की चेन्नै एक्सप्रेस, वॉटसन-फाफ ने यूं लगा दी पंजाब की ‘वॉट’

  • वॉटसन ने जहां 53 गेंदों में 83 रनों की अपनी नाबाद पारी में 11 चौके और 3 सिक्स लगाए, वहीं फाफ ने भी 53 बॉल पर 11 फोर और 1 सिक्स की बदौलत नॉट आउट 87 रन बनाए। सीएसके ने आईपीएल में 12वीं बार किसी टीम को 10 विकेट से शिकस्त दी है और इस बार सात साल बाद उसने यह करिश्मा किया है।

  • फाफ ने तो पिछले सभी चारों मैचों में उम्दा स्कोर किया था, लेकिन वॉटसन को देखकर ऐसा लग रहा था कि चेन्नै के लिए पूर्व में कई मैच विनिंग पारियां खेल चुका यह बल्लेबाज अच्छी शुरुआत करने और लय में होने के बावजूद आगे जाकर चूक जा रहा है, जिसका खामियाजा पूरी टीम को उठाना पड़ रहा था। लेकिन, इस बार ऐसा नहीं हुआ। गेंद के बेहद क्लीयर और ताकतवर स्ट्राइकर माने जाने वाले इस अनुभवी ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज ने पंजाब के सभी गेंदबाजों को जमकर धोया।

  • स्पिनर रवि बिश्नोई की एक गेंद पर तो वॉटसन ने 101 मीटर लंबा सिक्स जड़ा जो इस टूर्नमेंट का दूसरा सबसे लंबा छक्का था। फाफ भी सहयोगी की भूमिका निभाते हुए स्कोरकार्ड को लगातार आगे बढ़ाते रहे। उन्होंने मोहम्मद शमी द्वारा फेंके गए पारी के 18वें ओवर में लगातार दो गेंदों पर सिक्स और फोर के साथ मैच को खत्म किया। पिछले मैचों में कई मोर्चों पर घिरे कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के लिए यह जीत बेहद सुकून देने वाली होगी।

  • इसके पहले, किंग्स इलेवन पंजाब के कप्तान केएल राहुल ने मौजूदा टूर्नमेंट में अपनी शानदार फॉर्म को जारी रखते हुए फिर से नायाब पारी खेली। इस बार उनकी 52 बॉल में 63 रन की इनिंग्स में हालांकि वैसी आक्रामकता तो नहीं थी, लेकिन उन्होंने टीम को बखूबी सहारा देते हुए 20 ओवर में चार विकेट पर 178 रन का स्कोर तैयार करने में सबसे बड़ा योगदान जरूर दिया। यह टूर्नमेंट के पांच मैचों में राहुल की दूसरी हाफ सेंचुरी है, जबकि वह एक सेंचुरी भी जड़ चुके हैं।

  • देखा जाए तो राहुल के अलावा कोई भी बल्लेबाज बड़ी पारी नहीं खेल सका। उसके लिए निकोलस पूरन ने 17 गेंदों में 33, मंदीप सिंह ने 16 गेंदों में 27 और मयंक अग्रवाल ने 19 गेंदों में 26 रनों की तेज तर्रार पारी जरूर खेली। गेंदबाजी की बात करें तो पंजाब के लिए क्रिस जॉर्डन ने 42, हरप्रीत बरार ने 41, मोहम्मद शमी ने 35, रवि बिस्नोई ने 33 और शेल्डन कॉटरेल ने 30 रन खर्च किए। किसी भी गेंदबाज को कोई विकेट नहीं मिला।

  • चेन्नै सुपर किंग्स के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी ने रविवार को अपने नाम एक और उपलब्धि दर्ज कर ली। धोनी ने इंडियन प्रीमियर लीग में विकेटकीपर के रूप में 100 कैच दर्ज कर लिए। धोनी ने किंग्स इलेवन पंजाब के खिलाफ मुकाबले में यह मुकाम हासिल किया। इस मैच से पहले धोनी को सिर्फ एक कैच की जरूरत थी। वह आईपीएल में 100 कैच लपकने वाले दूसरे विकेटकीपर हैं। इससे पहले दिनेश कार्तिक 100 कैच लपक चुके हैं।

पंजाब की पारी का रोमांच

इससे पहले कप्तान लोकेश राहुल (63) की अर्धशतकीय पारी और बाकी बल्लेबाजों के संयुक्त प्रदर्शन के दम पर किंग्स इलेवन पंजाब ने चेन्नै सुपर किंग्स के सामने 179 रनों का लक्ष्य रखा। पंजाब ने टॉस जीतकर बल्लेबाजी चुनी और उसके सभी बल्लेबाजों ने अच्छा योगदान देते हुए टीम को 20 ओवरों में चार विकेट के नुकसान पर 178 रनों के स्कोर तक पहुंचाया। अंत के ओवरों में देखा जाए तो चेन्नै ने वापसी की और पंजाब को 200 के करीब जाने से रोक दिया।

मयंक 19 रन बनाकर आउट
पंजाब की शुरुआत जरूर धीमी मिली, लेकिन बाद में राहुल और निकोलस पूरन ने अपने अंदाज में बल्लेबाजी करते हुए बड़े शॉट्स लगाए। मयंक अग्रवाल के रूप में पंजाब ने अपना पहला विकेट नौवें ओवर की पहली गेंद पर 61 रनों पर खो दिया। मयंक ने 19 गेंदों पर तीन चौकों की मदद से 26 रन बनाए। इस सीजन में अपना पहला मैच खेल रहे मनदीप सिंह ने भी अच्छा योगदान दिया और 16 गेंदों पर दो चौकों की मदद से 27 रन बनाए।

PL 2020: डेविड वॉर्नर का प्रयास नहीं आया काम, मुंबई इंडियंस ने सनराइजर्स हैदराबाद को हराया

  • हित शर्मा ने संदीप शर्मा की गेंद पर सिक्स लगाया लेकिन उसी ओवर में विकेट के पीछे लपके गए। गेंद इतनी अच्छी नहीं थी। ऑफ स्टंप के बाहर गेंद को रोहित ने ड्राइव करने की कोशिश की। अंपायर ने अपील को ठुकरा दिया लेकिन विकेटकीपर जॉनी बेयरस्टो आश्वस्त थे। सनराइजर्स ने तीसरे अंपायर के पास जाने का फैसला किया। रीव्यू में साफ हुआ कि गेंद बल्ले का किनारा लेकर गई है।

    इस सीजन में अपना पहला मैच खेल रहे सिद्धार्थ कौल महंगे साबित हुए। उनके पहले ही ओवर में मुंबई के बल्लेबाजों ने चार चौके लगाए। इसमें से तीन सूर्यकुमार यादव ने लगाए। यादव और डि कॉक ने दूसरे विकेट के लिए 5 ओवर में 42 रन जोड़े। यादव अनलकी रहे कि वह एक खराब गेंद को सीधा शॉर्ट फाइन लेग पर कैच दे बैठे।

    यादव के आउट होने के बाद क्रीज पर क्रीज पर डि कॉक का साथ देने आए किंग्स इलेवन पंजाब के खिलाफ मुकाबले के हीरो रहे इशान किशन। बाएं हाथ के दो विकेटकीपर बल्लेबाजों ने तेजी से रन बटोरे। इस बीच डि कॉक ने अपनी हाफ सेंचुरी भी पूरी की। इस बीच किशन ने भी अच्छे शॉट लगाए। दोनों ने 7.1 ओवर में ही 78 रन जोड़ डाले। डि कॉक को हालांकि अपनी पारी के दौरान जीवनदान मिले जिसका फायदा उन्होंने पूरा उठाया। आखिर में उन्हें राशिद खान ने अपनी ही गेंद पर लपक लिया। डि कॉक ने 39 गेंद पर 67 रन की पारी खेली। उन्होंने चार चौके और चार छक्के लगाए।

    मनीष पांडे ने शानदार कैच लपककर किशन की पारी का अंत किया। किशन ने गेंद को लॉन्ग ऑन पर हवा में खेला। पांडे ने हवा में पूरी तरह छलांग लगाकर शानदार कैच किया। पांडे ने एक कैच छोड़ा था और उसकी भरपाई कर दी।

    हार्दिक पंड्या और कायरन पोलार्ड ने मुंबई की रनगति बढ़ाने का काम किया। दोनों ने अच्छे शॉट लगाए। पंड्या 19 गेंद पर 28 रन बनाकर सिद्धार्थ कौल की गेंद पर बोल्ड हो गए। यॉर्कर पर उन्होंने शॉट खेलना चाहा लेकिन गेंद उनके पैर से लगकर विकेटों से जा टकराई। वहीं पोलार्ड ने 13 गेंद पर 25 रन बनाए।

    ऐसा लग रहा था कि सनराइजर्स 200 से पहले मुंबई को रोक लेगा। लेकिन क्रुणाल पंड्या ने आखिरी चार गेंदों पर कमाल कर दिया। उन्होंने इन चार गेंदों पर दो चौके और दो छक्के लगाए। उनकी पारी की मदद से स्कोर 208 तक पहुंचा।

  • सनराइजर्स हैदराबाद के लिए कप्तान डेविड वॉर्नर और जॉनी बेयरस्टो ने सधी हुई शुरुआत की। दोनों ने 4 ओवरों में स्कोर को 34 तक पहुंचाया। बाएं हाथ के कीवी तेज गेंदबाज ट्रेंट बोल्ट ने सनराइजर्स को पहला झटका दिया। बेयरस्टो स्लो बाउंसर को पुल करने गए लेकिन टाइम नहीं कर पाए और हार्दिक पंड्या ने उनका आसान सा कैच लपका।

    पांडे कप्तान का साथ देने आए। उन्होंने खूबसूरत क्रिकेट शॉट खेले। दोनों ने 63 रन जोड़े। पांडे रनगति बढ़ाने के प्रयास में जेम्स पैटिनसन का शिकार बने। जब पांडे आउट हुए तो स्कोर 9.5 ओवर में 95 रन था। सनराइजर्स ने 11वें ओवर में अपने 100 रन पूरे किए।

    सनराइजर्स की उम्मीदें अब सिर्फ डेविड वॉर्नर पर टिकीं थीं। वॉर्नर अच्छी बल्लेबाजी तो कर रहे थे लेकिन उनके साथ कोई बल्लेबाज टिक नहीं रहा था। इसके अलावा सनराइजर्स की बैटिंग में मिडल ऑर्डर और लोअर मिडल ऑर्डर में अनुभव की कमी थी। इतना ही नहीं टीम के पास कोई फिनिशर भी नहीं है। ऐसे में वॉर्नर ने जेम्स पैटिनसन की बाहर जाती गेंद को पॉइंट की दिशा में खेलना चाहा। गेंद ने बल्ले का बाहरी किनारा लिया और शॉर्ट थर्ड मैन की दिशा में गई। किशन ने हवा में तैरते हुए गेंद को कैच किया। यहां उनके विकेटकीपिंग स्किल काम आए।

पूरन ने दी रन गति को रफ्तार
इसके बाद राहुल और निकोलस पूरन ने पंजाब को मजबूत स्कोर तक पहुंचाने का जिम्मा उठाया। पूरन ने 17 गेंदों पर 33 रन बनाए। उनकी पारी में तीन छक्के और एक चौका शामिल रहे। पूरन के जाने के बाद अगली ही गेंद पर शार्दुल ठाकुर ने राहुल को भी महेंद्र सिंह धोनी के हाथों कैच करा दिया। यह धोनी का आईपीएल में विकेटकीपर के तौर पर 100वां कैच रहा। राहुल ने अपनी पारी में 52 गेंदें खेलीं और सात चौकों के अलावा एक छक्का मारा।

सबसे अधिक कैच लेने वाले विकेटकीपर (IPL)
दिनेश कार्तिक- 103 कैच
एमएस धोनी- 100 कैच
पार्थिव पटेल- 66 कैच
नमन ओझा- 65 कैच
रॉबिन उथप्पा- 58 कैच

आखिरी 5 ओवर में बने 48 रन
यहां से पंजाब के स्कोर में 10-15 रन कम रह गए। सरफराज खान 14 और ग्लैन मैकस्वेल 11 रन बनाकर नाबाद रहे। आखिरी के पांच ओवरों में पंजाब ने 48 रन बनाए। चेन्नै के लिए ठाकुर ने दो विकेट लिए। रवींद्र जडेजा और पीयूष चावला ने भी एक-एक विकेट लिया।

No comments:

Post a Comment